{333+} प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में || Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai 2022

तो दोस्तों आज हम आप लोगों के साथ शेयर करने वाले हैं प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में का संपूर्ण कलेक्शन जो कि आप लोगों को काफी पसंद आएगा।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में की जरूरत आखिर क्यों पड़ती है यह तो इस वाक्य से स्पष्ट हो रहा है कि प्यार करने के बाद जब जुदा होते हैं तो उसका दर्द कितना होता है यह तो उस इंसान से पूछो जिसने प्यार में क्या-क्या किया।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में ऐसा इसलिए आप सर्च कर रहे हैं क्योंकि आपको आपके प्यार में दर्द मिल रहा है यह तो सच है क्योंकि जब कोई इंसान प्यार करता है तो प्यार जिंदगी का एक अहम हिस्सा होता है जिसमें इंसान को खुशियां मिलती है पर आप प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में सर्च कर रहे हैं इसका मतलब यह है कि आपको प्यार में खुशियां नहीं मिल रही दर्द मिलना है।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में अगर आप गूगल पर सर्च कर रहे हो या फिर किसी भी अदर सोशल मीडिया अकाउंट पर सर्च कर रहे हो और यहां पर आए हो तो आप सही जगह पर आए हो क्योंकि यहां पर आप लोगों को ऐसी ही प्यार में दर्द भरी शायरियां का कनेक्शन मिल जाएगा।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है।
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है।
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है।

हर किसी के नसीब में कहाँ लिखी हैं चाहतें,
कुछ लोग दुनिया में आते है तन्हाईयों के लिए।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

हर किसी के नसीब में कहाँ लिखी हैं चाहतें,
कुछ लोग दुनिया में आते है तन्हाईयों के लिए।

मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता हे,
कुछ अपनी तफलीक से डर लगता हे।
जो मुझे तुजसे जुदा करते हे,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता हे।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता हे,
कुछ अपनी तफलीक से डर लगता हे।
जो मुझे तुजसे जुदा करते हे,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता हे।

पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम,
गलती हुई क्योकि इंसान थे हम।
आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती हैं,
कभी उसी सक्श की जान थे हम।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम,
गलती हुई क्योकि इंसान थे हम।
आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती हैं,
कभी उसी सक्श की जान थे हम।

हमे तो इलज़ाम कुछ ऐसा मिला,
दोस्तों के हांथो हमे ये नाम मिला।
करू गिला में किस्से जब अपना ही नसीब ख़राब मिला,
हम तो ऐसे बदनाम हुए ज़माने में,,
की बरसो लग जायेगे हमे आपको भुलाने में।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

हमे तो इलज़ाम कुछ ऐसा मिला,
दोस्तों के हांथो हमे ये नाम मिला।
करू गिला में किस्से जब अपना ही नसीब ख़राब मिला,
हम तो ऐसे बदनाम हुए ज़माने में,,
की बरसो लग जायेगे हमे आपको भुलाने में।

दर्द से दोस्ती हो गई यारों,
जिंदगी बे दर्द हो गई यारों।
क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा,
दूर तक रोशनी तो हो गई यारो।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

दर्द से दोस्ती हो गई यारों,
जिंदगी बे दर्द हो गई यारों।
क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा,
दूर तक रोशनी तो हो गई यारो।

प्यास दिल की बुझाने वो कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं।
बेरुखी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उसने सताया भी नही।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

प्यास दिल की बुझाने वो कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं।
बेरुखी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उसने सताया भी नही।

टूटे हुए काँच की तरह,
चकना-चूर हो गया हूँ।
किसी को चुभ न जाऊँ,
इसलिए सबसे दूर हो गया हूँ।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

टूटे हुए काँच की तरह,
चकना-चूर हो गया हूँ।
किसी को चुभ न जाऊँ,
इसलिए सबसे दूर हो गया हूँ।

दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद,
वक़्त बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं।
मेरी गली से गुज़रते हैं छुपा के खंजर,
रु-ब-रु होने पर सलाम किया करते हैं।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद,
वक़्त बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं।
मेरी गली से गुज़रते हैं छुपा के खंजर,
रु-ब-रु होने पर सलाम किया करते हैं।

मासूमियत का कुछ ऐसा अंदाज़ था मेरे सनम का,
उसे तस्वीर में भी देखूं तो पलकें झुका लेती थी।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

मासूमियत का कुछ ऐसा अंदाज़ था मेरे सनम का,
उसे तस्वीर में भी देखूं तो पलकें झुका लेती थी।

Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai 2022

तेरे हाथ से मेरे होंट तक वोही इंतजार की पियास है,
मेरे नाम की जो शराब थी कहीं रस्ते में छलक गई।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

तेरे हाथ से मेरे होंट तक वोही इंतजार की पियास है,
मेरे नाम की जो शराब थी कहीं रस्ते में छलक गई।

न पीछे मुर्र के देखो, न आवाज़ दो मुझको,
बरी मुश्किल से सीखा है मैने अलविदा कहना।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

न पीछे मुर्र के देखो, न आवाज़ दो मुझको,
बरी मुश्किल से सीखा है मैने अलविदा कहना।

उसकी आंखें झील सी गहरी तो हैं,
उन आँखों मैं लेकिन तेरे लिए कोई बात नहीं।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

उसकी आंखें झील सी गहरी तो हैं,
उन आँखों मैं लेकिन तेरे लिए कोई बात नहीं।

इश्क की चोट अजीब संग शिकन होती है जाना,
इश्क की दर्द से ही कई यादे अब पुराने निकले।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

इश्क की चोट अजीब संग शिकन होती है जाना,
इश्क की दर्द से ही कई यादे अब पुराने निकले।

वक्त के साथ कई दर्द मेरी जान अब पुराने निकले,
कुछ गम ऐसे थे मेरी जान जो तेरे बहाने निकले।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

वक्त के साथ कई दर्द मेरी जान अब पुराने निकले,
कुछ गम ऐसे थे मेरी जान जो तेरे बहाने निकले।

मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है,
जीत में भी अजीब हार होती है।
अपनों पे किया था भरोसा,
गैरों ने दिया दिलासा।
अपनों से ही खाया है जख्म,
गैरों ने लगाया मरहम।
ये प्यार मोहब्बत ये क्या चीज़ है,
इससे अच्छी तो हमारी ज़िन्दगी की हार है।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है,
जीत में भी अजीब हार होती है।
अपनों पे किया था भरोसा,
गैरों ने दिया दिलासा।
अपनों से ही खाया है जख्म,
गैरों ने लगाया मरहम।
ये प्यार मोहब्बत ये क्या चीज़ है,
इससे अच्छी तो हमारी ज़िन्दगी की हार है।

इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है,
बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है।
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो,
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है,
बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है।
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो,
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है।

उनसे दूर जाने का इरादा ना था,
सदा साथ रहने का वादा भी ना था।
वो याद नहीं करेगा जानते थे हम,
पर इतनी जल्दी भूल जायेगा अंदाज़ा न था।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

उनसे दूर जाने का इरादा ना था,
सदा साथ रहने का वादा भी ना था।
वो याद नहीं करेगा जानते थे हम,
पर इतनी जल्दी भूल जायेगा अंदाज़ा न था।

वो जाते जाते अपनी आहट दे गए,
इन सोयी आखों में अपना सपना दे गए।
राहत मिलती थी उनके आने से,
फिर भी वो तनहा कर गए।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

वो जाते जाते अपनी आहट दे गए,
इन सोयी आखों में अपना सपना दे गए।
राहत मिलती थी उनके आने से,
फिर भी वो तनहा कर गए।

बैठे बैठे ग़म में गिरफ्तार हो गया,
नशा नशीन था हो गया।
दो गज़ ज़मीन मिल ही गयी मुझ गरीब को,
मरने के बाद में भी ज़मींदार हो गया।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में
Pyar Mein Dard Bhari Shayari Hindi Mai
प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

बैठे बैठे ग़म में गिरफ्तार हो गया,
नशा नशीन था हो गया।
दो गज़ ज़मीन मिल ही गयी मुझ गरीब को,
मरने के बाद में भी ज़मींदार हो गया।

Read More >>>

कौन कहता है नफ़रतों मैं दर्द होता है,
कुछ मोहब्बत बड़ी कमाल की होती है।

हम भी फूलों की तरह अक्सर तनह रहते है,
कभी टूट जाते है तो कभी कोई तोड़ देता है।

जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया,
न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया।

बड़ी हसरत थी कोई हम्हे टूट कर चाहे,
लेकिन हम ही टूट गए किसी को चाहते चाहते।

तुम्हारी अदा का क्या जवाब दूँ,
अपने दोस्त को क्या उपहार दूँ।
कोई अच्छा सा फूल होता तो माली से मंगवाता जो खुद गुलाब है,
उसको क्या गुलाब दूँ।

अँधेरा मिटा कर शहर छोड़ जाऊंगा,
एक रोज़ फिर तेरा शहर छोड़ जाऊंगा।

कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा,
जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं होना।

आंसू बहे तो एहसास होता है,
दोस्ती के बिना जीवन कितना उदास होता है,
उम्र हो आपकी चाँद जितनी लंबी,
आप जैसा दोस्त कहाँ हर किसी के पास होता है।

मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है ज़िन्दगी,
लेकिन सिर्फ सांस लेने को जीना तो नहीं कहते।

दिन हुआ है तो रात भी होगी,
मत हो उदास कभी तो उससे बात होगी वो प्यार है।
ही इतना प्यारा ज़िंदगी रही,
तो फिर मुलाकात होगी।

कशिश तोह बहुत है मेरे प्यार मे,
लेकिन कोई है पत्थर दिल जो पिगलता नहीं।
अगर मिले खुदा तो माँगूँगी उसको,
सुना है ख़ुदा मरने से पहले मिलते नहीं।

करने लगा हूं मैं तो खुद से तेरी बातें,
होने लगी है देखो कैसी करामाते।
दुनिया जहां से मैं कटने लगा हूं,
तू ही मेरा दिन है तू ही मेरी रातें।

रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हमने,
कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने।
हमें मालूम है क्या चीज़ है मोहब्बत यारो,
घर अपना जला कर किये हैं उजाले हमने।

ज़िन्दगी हैं नादान इसलिए चुप हूँ,
दर्द ही दर्द सुबह शाम इसलिए चुप हूँ।
कह दू ज़माने से दास्तान अपनी,
उसमे आएगा तेरा नाम इसलिए चुप हूँ।

तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने,
सुख गया तेरा दिया हुआ गुलाब लेकिन मैंने।
अपना खून देकर उसे जिन्दा रखा,
आज भी उसे मैंने कभी मुरझाने नहीं दिया।

तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे,
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे।
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो,
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है।
आप खुश रहें, मेरा क्या है मैं तो,
आईना हूँ मुझे तो टूटने की आदत है।

मेरे खुदा बता दे क्या मुझको हुआ है,
किसकी निगाहों ने मुझको छुआ है।
रंगने लगे हैं धागे मेरे जेहन के,
गजब यह जादू कैसा मुझको हुआ है।

झूठ बोल बोलकर हमसे उसको जरा भी थकन ना आई,
फरेब करता रहा हमसे और उसके माथे पर शिकन ना आई।

हँसते-हँसते अचानक रो देते है हम,
दर्द ही ऐसा गहरा दिया जो उसने हमें।

ऐ दर्द…कुछ तो Discount दे दे,
हम तेरे रोज के Customer है।

तरस आता है इन मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है,,
अब रोया नहीं जाता।

यह इश्क का जुआ हम भी,
खेल चुके हैं दोस्त।
रानी किसी और की हुई और,
जोकर हम बन गए।

जो जागते हैं, तन्हा रातों में किसी के लिए,
वही जानते हैं,,
किसी को खोने का दर्द क्या होता है।

सबसे ज्यादा दर्द तब होता है,
जब हम अपना दर्द किसी को बता नहीं पाते।

दिल परेशान रहता है, उनके लिए,
हम कुछ भी नहीं हैं, जिनके लिए।

दिल ही तो था,
बस भर गया होगा हमसे।

मिल ही गया होगा कोई गजब का हमसफर,
वरना मेरा यार,,
ऐसे बदलने वालो में से तो नहीं था।

इल्जाम तो लगा दूं,
कि कातिल भी तुम्ही हो।
मगर मासूम सा चेहरा है,
यकीन कौन करेगा?

डालकर आदत बेपनाह मोहब्बत की,
अब कहते हैं, समझा करो वक्त नहीं है।

ये तो जमीन की फितरत है, कि,
वो हर चीज को मिटा देती है।
वरना तेरी यादों में गिरने वाले,
आंसुओं का अलग समंदर होता।

See also  {222+} मोहब्बत की गम भरी शायरी || Mohabbat Ki Gam Bhari Shayari

कितनी अजीब है,
मेरे अन्दर की तन्हाई भी।
हजारों सपने है,
मगर याद सिर्फ तुम ही आते हो।

और कितनो से दिल लगाओगे,
और कितनो का दिल दुखाओगे।
किसी रोज किसी के खातिर,
तुम भी तड़पते रह जाओगे।

जो सह रहा है,
बस वही जानता है,,
कि वो किस दर्द में है?

जो था मेरे कभी मुस्कुराने की वजह,
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया।

दर्द वही देते हैं जिन्हें आप,
अपने होने का हक देते हैं।
वरना गैर तो हल्का सा धक्का लगने,
पर भी माफी मांग लिया करते हैं।

अकेले रोना भी,
क्या खूब कारीगरी है।
सवाल भी खुद के होते हैं,
और जवाब भी खुद के।

मुझे किसी के बदल जाने का गम नहीं है,
बस कोई था,,
जिस पर खुद से ज्यादा भरोसा था।

जब दर्द हद से ज्यादा बढ़ जाता है,
तो नजरों से अश्कों की जगह,,
लफ्जों से अल्फाज निकलने लगते हैं।

अब ना करूँगा अपने दर्द को बयान।
जब दर्द सहना मुझको ही है,,
तो तमाशा क्यों करना।

ये सुना है कि हिज्र में मेरे आपने मुस्कुराना छोड़ दिया,
ये तो ऐसा है जैसे मछली ने सर्दियों में नहाना छोड़ दिया।

दिल आबाद कहाँ रह पाए उस की याद भुला देने से,
कमरा वीराँ हो जाता है इक तस्वीर हटा देने से।

उलझते रहने में कुछ भी नहीं थकन के सिवा,
बहुत हक़ीर हैं हम तुम बड़ी है ये दुनिया।

प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में 2020

शाखों से टूट जायें वो पत्ते नहीं हैं हम,
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे।

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते हैं,
इस तरह जुदाई का गम मिटा लेते हैं।
अगर कभी उनका जिक्र हो जाए तो,
भीगी पलकों को हम झुका लेते हैं।

तेरे ऐसे सच्चे आशिक़ है हम,
दिलमे जिसके प्यार न हो कभी कम।
सच्चे प्यार में तो ज़िन्दगी महक जाती है,
ना जाने हमारी आँखे क्यों है नम।

रोता वही है जिसने कद्र किया हो सच्चा रिश्ता को,
मतलब पे रिश्ते रखने वालो को कोई रुला नहीं सकता।

तुमको लेकर मेरा ख्याल नही बदलेगा,
साल बदलेगा मगर दिल का हाल नहीं बदलेगा।

जख्म ही देना तो पूरा जिस्म तेरे हवाले था,
बे रहम तूने वार क्या वो भी दिल ही वार क्या।

बदले हुए लोगो के बारे मैं क्या कहू यारो,
मैंने अपने ही प्यार को किसी और का होते देखा है।

नज़र और नसीब में भी क्या इत्तफ़ाक़ है,
नज़र उसे ही पसंद करती है जो नसीब में नही होता।

कल रात वो शख्स मेरे खवाबो का भी काटल कर गया,
लोग कितना मुक़ाम रखते है छोड़ जाने के बाद।

मै मर जाऊ तो उसे खार तक भी ना होने देना,
वो सख्श मसरूफ बहुत है कही उसका वक़्त बर्बाद न हो जाये।

कितना मुश्किल है मोहब्बत की कहानी लिखना,
जैसे पानी से पानी पे पानी लिखना।

मिलता भी नहीं तुम्हारे जैसे इस शहर में,
हमको क्या मालूम था के तुम भी किसी और के हो।

तुझे पाने की तमन्ना दिल से निकाल दी मैंने,
मगर आँखों को तेरे इंतज़ार की आदत सी बन गयी है।

बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी,
ज़ख्म का कोई निशान नहीं और दर्द की कोई इंतहा नही।

वो मुझे से बिछड़े तो जैसे बिछड़ गयी ज़िन्दगी,
मैं ज़िंदा तो हूँ पर ज़िंदा नहीं रहा।

तेरे नफरत से भी मैंने रिश्ता निभाया है,
तूने बार बार मुझे फाल्तू होने का अहसास दिलाया है।

कोई आँखों आँखों में बात कर लेता है,
कोई आँखों आँखों में इकरार कर लेता है।
बड़ा मुश्किल होता है जवाब दे पाना,
जब कोई खामोश रहकर भी सवाल कर लेता है।

मुझ को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही।
बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए,
कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही।

आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है,
न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है।
यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का,
उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है।

ना मुस्कुराने को जी चाहता है,
ना आंसू बहाने को जी चाहता है।
लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में,
बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है।

यूही किसी की याद मे रोना फ़िज़ूल है,
इतने अनमोल आसू खोना फ़िज़ूल है।
रोना है तो उनके लिये जो हम पे निसार है,
उनके लिये क्या रोना जिनके आशिक़ हज़ार है।

दिल जब टूटता है तो आवाज नहीं आती,
हर किसी को मुहब्बत रास नहीं आती।
ये तो अपने-अपने नसीब की बात है,
कोई भूलता नहीं और किसी को याद भी नहीं आती।

गम ने हसने न दिया, ज़माने ने रोने न दिया,
इस उलझन ने चैन से जीने न दिया।
थक के जब सितारों से पनाह ली,
नींद आई तो तेरी याद ने सोने न दिया।

आंखे उदास ताश के पते थे हाथ माय,
खेरत की तरह मेरी तकदीर बात गये।

साथ हमारा पल भर का सही,
पर वो पल ऐसे जैसे कोई कल नहीं रहे।
ज़िन्दगी में शायद फिर मिलना हमारा,
पर महकती रहेंगी तुम्हारीं यादें हमारी।

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं।

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है।
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

जो दिल से करीब हो उसे रुसवा नहीं करते,
यूँ अपनी मोहब्बत का तमाशा नहीं करते।
खामोश रहेंगे तो घुटन और बढेंगी,
अपनों से कोई बात छुपाया नहीं करते।

क़दम क़दम पर बहारों ने साथ छोड़ दिया,
पड़ा जब वक़्त तो अपनों ने साथ छोड़ दिया।
क़सम खाई थी इन सितारों ने, साथ देने की,
सुबह होते ही सितारों ने भी साथ छोड़ दिया।

आप गैरों की बात करते हैं,
हमने अपनों को आजमाया है।
लोग काटों से बचकर चलते हैं,
हमने फूलोँ से जख्म खाया है।

लोगो ने रोज़ कुछ नया ही माँगा खुदा से,
एक हम हैं की तेरे सवाल से आगे नहीं गए।

न जाने इतनी मोहब्बत कहाँ से आ गयी,
उस अजनबी के लिए।
के मेरा दिल भी उसकी खातिर,
अक्सर मुझसे हु रूठ जाया करता है।

कमाल का शक्स था जिसने ज़िन्दगी तबाह कर दी,
राज़ की बात है दिल उससे आज भी खफा नहीं।

जान कर भी तुम मुझे जान न पाए,
आज तक तुम मुझे पहचान न पाए।
खुद ही की है बेवफाई हम ने,
ताकि तुझ पे कोई इल्जाम न आए।

हमने तेरे बाद न रखी किसी से मोहब्बत की आस,
इक शख्स ही बहुत था, जो सब कुछ सिखा गया।

इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं,
कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं।
जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई,
वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं।

ऐ कलम रुक रुक के चल एक अदब का मुकाम है,
तेरी नोक के नीचे मेरे महबूब का नाम है।

तुम ने मोहब्बत में एक पल खोया है,
मैंने उस पल में साडी ज़िन्दगी खो दी।

कभी ज़रूरत पड़े तो आवाज़ दे देना,
में गुज़रा वक़्त नहीं जो वापिस न आऊ।

रात की तन्हाई में उसको आवाज़ दिया करते हैं,
रात में सितारों से उनका ज़िक्र किया करते हैं।
वोह आयें या ना आयें हमारे ख्वाबों में,
हम तोह बस उन्ही का इंतज़ार किया करते हैं।

बहुत कोशिश की मगर न भुला पाया में तुझको,
याद तुम्हारी सताती रही, चैन भी न आया मुझको।
सोते वक़्त भी चेहरा सामने नज़र आए,
क्या मिल जायेगा मुझको प्यार मेरा,,
बस यही सोचते सोचते रात गुज़र जाये।

हम नहीं करते इश्क़ से इश्क़ तो हमारा पेशा है,
वो इश्क़ ही गया जिस मैं यार बेवफा है।

हम इश्क़ के वो मुकाम पर खड़े है,
जहाँ दिल किसी और को चाहे तो गुन्हा लगता है।

दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है,
महसूस होता है जब वो जुदा होता है।
बिना दोस्त के जीना सजा होता है,
और दोस्त तुम जैसा हो तो जीवन में मज़ा होता है।

करने लगे जब शिकवा उससे उसकी बेवफाई का,
रख कर होंट को होंट से खामोश कर दिया।

बोलती है दोस्ती चुप रहता है,
प्यार हंसाती है दोस्ती रुलाता है प्यार।
मिलाती है दोस्ती जुदा करता है,
प्यार फिर क्यों दोस्ती छोड़कर लोग करते है प्यार।

अकेले ही गुजारनी पड़ती है ज़िन्दगी,
और तसलियाँ देते है जीना।

होंटो की हकीकत को न सज्म हकीहत,
दिल मैं उतर के देख कितने टूटे है हम।

वो जिनको देख कर आँखों में आसूं जाते है,
वहीं कुछ लोग ज़िन्दगी वीरान कर जाते है।

हकीकत बयां करू तो मैं उसके इन्तजार में हूँ,
पर क्या करू मैं नए रिश्तो की दीवार में हूँ।

नफरत करोगे तो भी आउंगा तेरे पास,
देख तेरे बगैर रहने की आदत नहीं मुझे।

मत पूछा करो रात भर जागने की वजह हटें,
मोहब्बत मैं कुछ सवालों के जवाब नहीं होते।

रह रह के मुझे इतना रुलाते क्यूँ हो,
याद कर नही सकते तो याद आते क्यूँ हो।

मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता,
मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता।
क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा,
में मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता।

See also  {1000+} Sad Status In Hindi || सैड स्टेटस इन हिंदी [October 2022]

बहुत आसाँ है इश्क़ में हार के खुदखुशी कर लेना,
कितना मुश्किल है जीना, ये हमसे पूछ लेना।

थोडा सा इंतज़ार ही कर लेते,
मेरे दिन बुरे थे मैं नहीं।

हमने भी एक ऐसे शख्स को चाहा जिसको भुला न सके,
और वो किस्मत मैं भी नहीं।

ख़ुशी तो तकदीर में होनी चाहिए,
तस्वीरों में तो हर कोई खुश नज़र आता है।

और इतनी भी उदासी किस काम की,
थोड़ा इश्क़ करलो वरना जिंदगी किस काम की।

हम बने ही थे तबाह होने के लिए,
तेरा छोड़ जाना तो महज़ इक बहाना था।

ढूड ही लेता है मुझे किसी ना किसी भने से दर्द,
वाकिफ हो गया है मेरे हर ठिकाने से।

वो आज करती है नजर अंदाज तो बुरा ना मान,
टूट कर चाहने वालो को रुलाना रिवाज है दुनिया वालो का।

कौन करता है यहाँ प्यार निभाने के लिए,
दिल तो एक खिलौना है जमाने के लिए।

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे,
वो भी पल पल हमें आजमाते रहे।
जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया,
हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे।

दुःख तब होता है जो वो इन्सान आप को इंग्नोर करे,
जिसके लिए आप ने सबको इग्नोर किया।

पता है तकलीफ क्या है किसी को चाहना,
फिर उसे खो देना और खामूश हो जाना।

गिरते हुए आंसुओं को कौन देखता है,
झूठी मुश्कान के दीवाने है सब लोग।

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे,
लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे।
कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए,
जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।

जो दिल में आए वो सब करना,
बस एक गुजारिश है किसी से अधुरा प्यार मत करना।

तुमसे बात किये बिना ज़िन्दगी भर रह सकते है,
लेकिन तुम्हे याद किये बिना एक पल भी नही।

बेवफा तेरा मासुम चेहरा भुल जाने के काबिल नही है,
मगर तु बहुत खुबसुरत पर दिल लगाने के काबिल नही।

जब खामोश निगाहों से बात होती है,
तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है।
हमतो बस खोये ही रहतें हैं उनके ख्यालों में,
पता ही नही चलता कब दिन कब रात होती है।

हसना हमारा किसी को गवारा नहीं होती,
हर मुसाफिर ज़िन्दगी का सहारा नहीं होता।
मिलते है हर लोग तनहा ज़िन्दगी में,
पर हर कोई आपसा प्यारा नहीं होता।

क्या अजीब था उनका मुझे छोड़ के जाना,
सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं।
कुछ इस तरह बर्बाद हुए उनकी मोहब्बत में,
लुटा भी कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं।

जिसने हक़ दिया मुझे मुस्कुराने का उसका शौक है,
मुझे रुलाने का जो लहरों से लड़कर लाया था,,
किनारों पर उसे इंतज़ार है अब मेरे डूब जाने का।

हर बात में आंसू बहाया नहीं करते,
दिल की बात हर किसी को बताया नहीं करते।
लोग मुट्ठी में नमक लेके घूमते है,
दिल के जख्म हर किसी को दिखाया नहीं करते।

वो रूठे इस कदर की मनाया न गया,
दूर इतने हो गए की पास बुलाया न गया।
दिल तो दिल था कोई गैर का साहिल नहीं,
लिख दिया जो नाम वो मिटाया न गया।

दोस्ती का हर फ़र्ज़ अदा किया मैंने,
मत सोचना की मैंने तुम्हे भूला दिया,,
खुदा से पहले तेरा सजदा किया मैंने।

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर,
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर।
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह,
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।

प्यार की दर्द भरी शायरी हिंदी में

संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा,
अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा।
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा,
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।

तुम्हे जिंदा रहना है,
उस पल के लिए, जिस पल का है।
लोगों को इंतजार, मोहब्बत में लोग दर-दर भटकते हैं,
किसका करें ऐतबार।

कत्ल करके जाता तो दुनिया की नज़रों में आ जाता,
समझदार कातिल था मोहब्बत करके छोड़ दिया।

जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे,
याद उन्हें दिन-रात किया करते थे।
अब उन राहों से गुज़रा नहीं जाता,
जहाँ बैठ कर उनका इंतज़ार किया करते थे।

हम दिलफेक आशिक़ हर काम में कमाल कर दे,
जो वादा करे वो पूरा हर हाल में कर दे।
क्या जरुरत है जानू को लिपस्टिक लगाने की,
हम चूम-चूम के ही होंठ लाल कर दें।

उसे लगता था कि उसकी चालाकियां हमें समझ नहीं आतीं,
हम बड़ी खामोशी से देखते थे उसे अपनी नजरों से गिरते हुए।

बरबाद करना था तो किसी और तरीके से करते,
जिंदगी बनकर जिंदगी ही छीन ली तुमने।

कैसे बयान करें सादगी अपने महबूब की,
पर्दा हमीं से था मगर नजर भी हमीं पे थी।

गुजर रही है जिन्दगी बड़े ही नाजुक दौर से,
मिलती नहीं तसल्ली तेरे सिवा किसी और से।

भले ही वो हर किसी को पसंद आता हो,
लेकीन उसकी पसंद मै हूँ।

दिल दुखाया करो इजाजत है,
भूल जाने की बात मत करना।

यूँ न किछ मुझे अपनी तरफ बे बस करके ऐसा न हो के,
खुद से बिछड़ जाओ और तो भी न मिले।

किसी के तुम हो किसी का ख़ुदा है,
दुनिया में मिरे नसीब में तुम भी नहीं ख़ुदा भी नहीं।

वो जिसके रहने से महफ़िल जवान रहती थी तुम्हें ख़बर है ?
वो लड़का उदास रहने लगा।

उसे फुरसत नहीं मिलती ज़रा सा याद करने की,
उसे कह दो हम उसकी याद में फुरसत से बैठे हैं।

अपने ही होते है जो दिल पर वार करते है,
गैरों को क्या खबर दिल किस बात पर दुखता है।

तुम क़रीब हो मगर फ़िर भी तुम्हारे,
बदन से वो मोहब्बत की खूश्बू आती नहीं।
इन हवाओं का रूख भी बदल रहा है,
लगता है तुम्हें अब सोहबत मेरी भाती नहीं।

दुसरो को इतनी जल्दी माफ़ कर दिया करो,
जितनी जल्दी आप उपरवाले से अपने लिए माफ़ी की उम्मीद रखते हो।

जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना,
बहुत तङपाते है अक्सर सीने से लगाने वाले।

जमाना कहता है बड़ी दिलकस है,
मेरी आँखें उन्हें किया मालूम ये मेरे पियर की निशानी है।

मोहब्बत के अंदाज़ बड़े जुदा होते है,
साहब किसी ने टूट के चाहा और कोई चाह के टूट गया।

सदियों से जिस खुशी की तालाश थीं,
हमे वो खुशी हो तुम मेरी ज़िंदगी की।

न जाने आज भी मुझे तेरा इंतज़ार क्यों है,
बिछुड़ने के बाद भी मुझे तुझसे प्यार क्यों हैं।

समझ ना सके उन्हें हम,
क्योंकि हम प्यार के नशे में चूर थे।
अब समझ में आया,
जिसपे हम जान लुटाते थे,,
वो दिल तोड़ने के लिए मशहूर थे।

पलकों में आंसू और,
दिल में दर्द सोया है।
हंसने वालों को क्या पता?
रोने वाला किस कदर रोया है।

इतना दर्द तो खुदा ने भी नहीं लिखा होगा,
मेरी किस्मत में,,
जितना दर्द तूने मुझे प्यार करके दिया है।

एक दिन जब हुआ प्यार का एहसास उन्हें,
वो सारा दिन आकर हमारे पास रोते रहे।
और हम भी इतने खुदगर्ज निकले यारों की,
आँखें बंद कर के कफन में सोते रहे।

इश्क में मेरा इस कदर टूटना तो लाजमी था,
कांच का दिल था,और मोहब्बत पत्थर से की थी।

तोड़ना था तो साँसे तोड़कर जाते,
सिर्फ दिल तोड़कर क्या मिला?

एक बार भी नहीं रोका तुमने,
मुझे जाने से।
जैसे तू वर्षोँ से इसी दिन,
के इंतजार में थी।

रखी ही नहीं फिर किसी से,
मोहब्बत की आस।
एक तेरी याद ही बहुत है,
जिंदगी भर तडपाने के लिए।

ये मोहब्बत के हादसे अक्सर,
दिलों को तोड़ देते हैं।
तुम मंजिल की बात करते हो,
लोग राहों में ही साथ छोड़ देते हैं।

मत बनाना इस जहाँ में रिश्ता,
बहुत मुश्किल उन्हें निभाना होगा।
एक नया दर्द देगा, हर एक नया रिश्ता,
एक तरफ तुम बेबस खड़े होगे,,
और दूसरी तरफ हँसता हुआ जमाना होगा।

छोड़ो ना यार,
क्या रखा है सुनने और सुनाने में।
किसी ने कसर नहीं छोड़ी,
दिल दुखाने में।

बहुत ही सही कहा है किसी ने,
अपने कभी नहीं रुलाते।
बल्कि रुलाते वो हैं जिन्हें हम,
अपना समझने की भूल कर देते हैं।

हर दर्द का इलाज मिलता था,
जिस बाजार में।
मोहब्बत का नाम लिया तो,
दवाखाने बंद हो गए।

ये तो बस वही जान सकता है,
मेरी तन्हाई का आलम।
जिसने जिंदगी में किसी को,
पाने से पहले खोया हो।

कोई इल्जाम रह गया हो,
तो वो भी दे दो।
पहले भी हम बुरे थे,
अब थोड़े और सही।

संवर रही है अब वो किसी और के लिए,
पर मैं बिखर रहा हूं आज भी उसी के लिए।

दर्द में भी मुस्कुरा देता हूं,
अपनों से ही दर्द छुपा लेता हूं।

ना कर तू इतनी कोशिशे,
मेरे दर्द को समझने की।
तू पहले इश्क कर, फिर चोट खा,
फिर लिख दवा मेरे दर्द की।

जब इंसान का दिल टूट जाता है,
तो वो अन्दर के खामोश और।
दुनिया को खुश दिखने के लिए,
झूठी हंसी का सहारा लेने लगता है।

बहुत मतलबी हैं यहाँ के लोग,
पहले आदत बनाते है।
फिर करीब आते हैं,
और जब प्यार हो जाये तो,,
छोड़ कर चले जाते हैं।

हम तो हँसते हैं,
दूसरों को हँसाने के लिए।
वरना जख्म इतने है कि,
ठीक से रोया भी नहीं जाता।

See also  {600+} दर्द भरी शायरी || Dard Bhari Shayari In Hindi

रीत है ना जाने कैसी ये जमाने की?
सजा मिलती है यहाँ दिल लगाने की।
ना बिठाओ किसी को दिल में इतना कि,
फिर दुआ मांगनी पड़े उसे भूल जाने की।

खेलना अच्छा नहीं,
किसी के नाजुक दिल से।
दर्द जान जाओगे जब,
कोई खेलेगा तुम्हारे दिल से।

दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया,
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया।
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।

निभाया वादा हमने शिकवा ना किया,
दर्द सहे मगर तुझे रुसवा ना किया।
जल गया नशेमन मेरा, खाक अरमा हुए,
सब तूने किया मगर मैंने चर्चा ना किया।

तेरी आरजू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है।
मेरे जख्म का अंदाजा ना लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

फिक्र तो तेरी आज भी करते हैं।
बस जिक्र करने का हक नहीं रहा।

सोचता था दर्द की दौलत से,
एक मैं ही मालामाल हूँ।
देखा गौर से तो,
हर कोई रईस निकला।

कैसे बयाँ करूँ अपने दर्द को?
सुनने वाले बहुत हैं,,
पर महसूस करने वाला कोई नहीं।

मैंने कब कहा कि तुम अच्छे नहीं लगते।
लेकिन हाँ अब तुम सच्चे भी नहीं लगते।

दुनिया इतनी जालिम है,
हर बात छुपाना पड़ता है।
दिल में इतना दर्द है,
फिर भी मुस्कुराना पड़ता है।

तुम बात नहीं करोगे तो,
ऐसे में मैं मर जरुर जाऊंगा।
तुम रहोगे ऐसे ही खफा हमसे,
कुछ ना कुछ जरुर कर जाऊंगा।

हर गली हर जगह दीया जलाना,
हर बाग में फूल खिलाना।
इस दुनिया में सब कुछ कर लेना,
सिर्फ हम से मोहब्बत मत कर लेना।

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं,
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते है।
बच के रहना इन हुसन वालों से यारो,
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।

तुम मुझ पर लगाओ हम तुम पर लगायें,
ये ज़ख्म मरहम से नही तो इल्ज़ामों से भर जायेंगे।

उससे ऐसा भी क्या रिश्ता है,
दर्द कोई भी हो याद उसी की आती है।

मोहब्बत का कोई कसूर नहीं,
उसे तो मुझसे रूठना ही था।
दिल मेरा शीशे सा साफ़,
और शीशे का अंजाम तो टूटना ही था।

कोई मरता नहीं किसी ले लिए ये सच है,
मगर ये सच है कोई मर मर के जीता है किसी के लिए।

अभी मसरुफ हूँ काफी फुर्सत में सोचूंगा तुम्हे,
के तुझे याद रखने में क्या क्या भूले है हम।

मोहब्बत छोड़ कर हर एक जुर्म कर लेना,
वरना तुम भी मुसाफिर बन जाओगे तनहा रातों के।

भूल जाना तो दुनिया का रसम है दोस्त,
तुमने भुला दिया तो कोण का कमाल कर दिया।

हम कहीं जायेंगे बना लेंगे जगह अपने लिए,
हम को आता है दिल में उतर जाना।

चाँद के रूप में आते ही नहीं तुम,
गम की रातों मैं अज़ाब जनस बहार होता।

अगर बिकने पे आ जाओ तो घट जाते है दाम अक्सर,
न बिकने का इरादा हो तो कीमत और बढ़ती है।

वो बेवफा यूँ ही बदनाम हो गया,
हजारो चाहने वाले थे किस किस से प्यार करता।

मसरूफियत में आती है बेहद तुम्हारी याद,
फुर्सत में तेरी याद से फुरसत नहीं मिलती।

साकी को गिला है के बिकती नहीं शराब,
और एक नाम है के होश में आने नहीं देता।

उसने मेरी हथेली पे अपनी नाज़ुक सी ऊँगली से लिखा मुझे प्यार है तुमसे,
न जाने कैसी स्याही थी की वो लफ्ज़ मिटे भी नहीं और आज तक दिखे भी नहीं।

जोड़कर रिश्ता मोहब्बत का किसी से,
उसे तन्हा अकेले छोड़ा नहीं जाता।
कांच से होते है यह दिल के रिश्ते,
इन दिल के रिश्तों को यु ही तोड़ा नहीं जाता।

आखरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लू,
लौट के फिर तेरी महफ़िल में नही आऊंगा।
अपनी बर्बाद मोहब्बत का जनाज़ा लेकर,
तेरी दुनिया से बहुत दूर चला जाऊंगा।

मोहब्बत हाँथ में पहनी हुई चूड़ी के जैसी है,
संवारती है, खनकती है, खनक कर टूट जाती है।

मेरी चाहत ने उसे ख़ुशी दे दी,
बदले में उसने मुझे सिर्फ ख़ामोशी दे दी।
खुदा से दुआ मांगी मरने की,
लेकिन उसने बी तड़पने की लिए ज़िन्दगी दे दी।

मेरा हाल देखकर मोहब्बत भी शर्मिंदा है,
की वो शख्स सब कुछ कर गया फिर भी जिन्दा है।

सुना था कभी किसी से ,
ये मोहब्बत की दुनिया है।
हमने भी दिल लगा के देखा तो ये जाना,
मतलब की दुनिया है और ,ये तो जालिमों से भरा है।

फूल शबनम में डूब जाते है,
जख्म मरहम में डूब जाते है।
जब आते है ख़त तेरे,
हम तेरे गम में डूब जाते है।

बाते तो बहुत करते हो,
इश्क-ओ-ख़ुलूस की तुम।
ज़रा अपने दिल में,
तो देख लो में हु भी या नहीं।

आशिक़ मरते नहीं दफनाये जाते हैं,
ज़मीन खोद कर देखो जिंदा पाए जाते है।
कोई कहता इससे आग लगा दो,
कोई कहता इससे ज़मी पे गार दो।
मगर ज़ालिम ज़माना ये नहीं कहता की,
इससे अपने प्यार से मिला दो।

गम न कर हम तेरी राह में नहीं आयेगे,
अगर आह भी गए तो तुझसे नज़रे नही मिलायेगे।
जब होगा तुझे अपनी गलती का एहसास,
तब तक हम किसी और के हो जायेंगे।

आज भी बहता हा उसका दिया हुआ ज़ख़्म,
मियन चाह कर भी उसे सह न पाया।
बस कहने के लिए जिंदा हु मैं तो यारो,
पर मर्ज़ी के साथ कभी जी न पाया।

दर्द बन के दिल में छुपा कौन है,
रह रह कर इसमें चुबता कौन है।
एक तरफ दिल है और एक तरफ आइना,
देखना है इस बार पहले टूटता कौन हो।

दर्द में इस दिल को तरपते देखा,
संन्य हर रिश्ते को बिखरते देखा।
कितने प्यार से सजाये खवाबो की दुनिया,
उसी आँखों से अपने उजरते देखा।

किसी से न करेंगे प्यार इस तरह,
न झेलना पड़ेगा जख्म इस तरह।

अपना ख्याल रखा करो मेरे लिए,
बेशक़ सांसे तुम्हारी चलती है लेकिन तुम में जान तो हमारी बस्ती है।

जब सीना ग़म से भोजल हो और याद किसी की आती हो,
तब कमरे में बंद हो जाना और चुपके चुपके रो लेना।

तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में ए यार,
दर्द हो तो समझ लेना की मोहब्बत अब भी बाकी है।

समझाया था मैंने उसे की वो ही मेरी ज़िन्दगी है,
चला गया मुझे छोड़ के ये जानते हुए की वो ही मेरा सहारा था।

मैं मर जाऊ तो मुझे जला देना,
उससे पहले मेरा दिल को निकाल लेना।
मुझे परवाह नहीं इस दिल की जल जाने की,
मुझे परवाह है इस दिल में रहने वाली की।

कल रात मेरी आँख से एक आंसू निकल आया,
मैंने उसे पूछा तू बहार क्यों आया।
तो उसने मुझे बताया की,
तुम्हारी आँखों में कोई इतना है समाया,,
की चाहकर भी अपनी जगह न बना पाया।

पानी से तस्वीर कहा बनती है,
ख्वाबों से तकदीर कहा बनती है।
किसी भी रिश्ते को सच्चे दिल से निभाना,
ये जिंदगी फिर वापस कहा मिलाती है।

और इसलिए कहते है, कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,
कोई रूठे तो उसे मानना सीखो।
रिश्ते तो मिलते है मुकदर से,
बस उन्हें खूबसूरती से निभाना सीखो।

दुनिया ने हम पे जब कोई इल्जाम रख दिया,
हमने मुकाबिल उसके तेरा नाम रख दिया।
इक ख़ास हद पे आ गई जब तेरी बेरुखी,
नाम उसका हमने गर्दिशे-अय्याम रख दिया।

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,
ख्यालों में किसी और को हम ला न सके।
उसको देखकर आँसू तो पोंछ लिए,
लेकिन किसी और को देखकर हम मुस्कुरा न सके।

हमने भी किसी से प्यार किया था,
हाथो मे फूल लेकर इंतेज़ार किया था।
भूल उनकी नही भूल तो हमारी थी,
क्यों की उन्हो ने नही, हमने उनसे प्यार किया था।

ए खुदा किया चीज़ मोहब्बत तू ने बनाई है,
किसी को यह मिल जाती है और कोई सहता उम्र भर की तन्हाई है।
साथ चानले के खवाब देखते हैं जो लोग मोहब्बत मैं,
कोई पा लेता है अपनी मंजिल को और कोई सहता उम्र भर की जुदाई है।

बेख़ुदी ले गयी कहाँ हम को,
देर से इंतज़ार है अपना।
रोते फिरते है सारी सारी रात,
अब येही रोज़गार है अपना।

खामोश जुबां पर तल्खी आही जाती है,
दर्द अपनों ने दिया हो तो यह बातें आह ही जाती है।

कुछ पल की यह मोहब्बत कैसी,
हमसे जुदा होने की ये हसरत कैसी।
अभी तो वादे किये थे प्यार इश्क वफ़ा के,
तो फिर हमसे दूर होने की ये चाहत कैसी।

तो दोस्तों आप लोगों ने ऊपर प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में पड़ी है और आप लोगों को पसंद आई होगी या फिर आपके दिल को सुकून मिला होगा इस शायरी को पढ़कर अगर आप लोगों को पसंद आए हो तो।

आप अपने सभी फ्रेंड सर्कल में जिसने प्यार किया हो या फिर इसको प्यार में दर्द मिला है उसको जरूर शेयर करें ताकि वह भी पढ़ कर अपने दिल को सुकून दे सके।

और आप अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट पर भी इसको शेयर कर सकते हैं टेक्स्ट को और इमेजेस को भी अपने सोशल मीडिया हैंडल्स पर डाल सकते हैं और उसी में दर्द जाहिर कर सकते हो इन शायरी और शायरी इमेजेस के जरिए।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment