{251} दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी || Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari: तो दोस्तों आज हम आप लोगों को देने वाले हैं दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी या शायरियां का संपूर्ण कलेक्शन जो कि आप लोगों को काफी पसंद आएगा।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी इंसान क्यों सर्च करता है उस इंसान को ऐसा लगता है कि दुनिया में सबसे ज्यादा दर्द उसे ही मिल रहा है और उस दर्द को जाहिर करने के लिए वह इंसान कुछ ऐसे शब्द या फिर शायरी को ढूंढता है और वह अपनी करंट सिचुएशन को सोशल मीडिया हैंडल्स के द्वारा लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari
दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी

और अगर आप भी उन लोगों में से एक हो और आप दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी ढूंढ रहे हो तो आप सही जगह पर आए हो क्योंकि ऐसे ही हमने बहुत सारी दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरियों का कलेक्शन करके रखा है जो कि आपका दर्द या फिर दुख जाहिर करने के लिए जरूर काम में आएंगे।

नीचे जाकर सभी शायरियां को पढ़िए और समझ गए और जो शायरी आप से मैच हो या फिर यूं कहें कि आपके ऊपर लिखे हुए हैं ऐसा लगता है तो उस शायरी को आप उपयोग कर सकते हो या फिर इमेजेस को डाउनलोड करके अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर डाल सकते हो।

Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

मुझे देख कर जब उन्होंने अपना मुँह मोड़ लिया,
मुझे एक तसल्ली हो गयी,,
चलो अब भी वो हमें पहचानते तो हैं।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

एक बात समझाई है,जिंदगी में मुझे,
कभी कभी जिंदगी के तलाश में,,
सामना मौत से भी हो जाता हैं।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

न जाने क्यों लगता हैं,
अब तुमने बहुत देर कर दी।
पर जब तक एहसास होगा,
हमारी मोहब्बत का,
तब तक हमारा पता बदल जायेगा।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

सुना हैं अब किसी और की बाहों में हो तुम,
अब हम से किये बाते।
किसी और से किया करते हो,
सच में सनम बड़े बेईमान हो तुम।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

मैं समझ जाता मोहब्बत,
अगर हमे वो मिल जाती।
पर अच्छा हुआ नहीं मिली,
अगर मिल जाती तो,,
ये शायरी न बन पाती।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

एक तरफ हम हैं,
जो अपनी जिद पर अड़े हैं।
और एक तरफ हमारी जिंदगी,
जिसे हारना पसंद नहीं हैं।
वो चले थे तोड़ने हमे शीशा समझकर,
पर वो शायद भूल गए।
पथकर को तोडना आसान नहीं हैं।।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

उस गैर को कहकर अच्छा दोस्त मुझे भटका मत,
नहीं करनी मोहब्बत तो मत कर, पर बाते बना मत।
तुझसे मोहब्बत थी मुझे अब नफरत होती हैं,
अब छोड़ जाने दे मुझे अब और पागल बना मत।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

आपके न होने से, ज़िन्दगी उदास है,
पर इस दिल को तो अब भी मिलने की आस हैं।
घाव नहीं हैं पर जख्म का एहसास हैं,
कभी कभी तो महसूस होता हैं,,
मेरा दिल अब भी आपके पास है।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

उसके चले जाने के बाद,
हम मोहब्बत नहीं करते किसी से।
छोटी सी जिन्दगी है,
किस किस को अजमाते रहेंगे।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

मेरे अल्फाज़ों को झूठ ना समझना,
याद आती हो बहुत मिलने की दुआ रना।
जी रहा हूँ तुम्हारा नाम लेकर,
मर जाऊ तो बेवफा ना समझना।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari Image

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो

दर्द ज़ाहिर कभी करने नहीं देता मुझको,
अश्क आंखों में भी भरने नहीं देता मुझको।
जानता हूँ, कि मैं अब टूट चुका हूँ लेकिन,
वो तो इक शख्स बिखरने नहीं देता मुझको।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम,
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम।
जिसको जितना याद करते हैं।
उसे भी उतना याद आयें हम।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

हर सपना किसी का पूरा नहीं होता,
कोई किसी के बिना अधुरा नहीं होता।
जो रौशन करता हैं सब रातों को,
वो चाँद भी तो हर रात पूरा नहीं होता।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

क्या करूँगा उसका इंतज़ार कर के,
जब चली गई वो मुझे बर्बाद कर के।
सोचा था अपना भी एक जहाँ होगा,
मगर मिली सिर्फ तन्हाई उनसे प्यार कर के।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

तकदीर ने जैसे चाहा ढल गए हम,
यूं तो संभल के चले थे फिर भी फिसलगए हम।
अपना यकीं है की दुनिया बदल गयी,
पर सबका ख्याल है के बदल गए हम।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

मिलके बिछड़ना दस्तूर है जिंदगी का,
एक यही किस्स मशहूर है जिंदगी का।
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते,
यही सबसे बड़ा कसूर है जिंदगी का।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

आंसूं पीते हैं प्यास बुझाने के लिये,
आग हमने ही लगायी थी खुद को जलाने के लिये।
इस जनम में तो मुमकिन नहीं,
और जनम लगेंगे आपको भुलाने के लिये।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

प्रेम करके हमने क्या पाया है,
बस अपना समय किया जाया है।
इश्क़ किया जिससे ज़हां से ज़्यादा,
उससे हमने बस धोखा खाया है।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

जिंदगी देने वाले मरता छोड़ गये,
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये।
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

हर सागर के दो किनारे होते है,
कुछ लोग जान से भी प्यारे होते है।
ये ज़रूरी नहीं हर कोई पास हो,
क्योंकी जिंदगी में यादों के भी सहारे होते है।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी फोटो
Duniya Ki Sabse Dard Bhari Shayari

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको।
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको।

झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के उनका इंतज़ार किया।
वो जान ही न पाई जजबात मेरे,
जिसे दुनियाँ में मैंने सबसे ज्यादा प्यार किया।

ऐसा भी नहीं की उससे मिला दे कोई,
कैसी हैं वो बस इतना बता दे कोई।
सुखी हैं बरी देर से पलकों की जुवा,
आज की रात तो जी भर के रुला दे कोई।

वक़्त बदलता है हालात बदल जाते हैं,
ये सब देख कर जज़्बात बदल जाते हैं।
ये कुछ नही बस वक़्त का तक़ाज़ा है दोस्तो,
कभी हम तो कभी आप बदल जाते हैं।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी इमेज

फरेब था हम आशिकी समझ बैठे,
मौत को अपनी ज़िंदगी समझ बैठे।
वक़्त का मज़ाक था या बदनसीबी,
उनकी दोस्ती की दो बातों को,,
हम प्यार समझ बैठे।

हमारी दास्तां उसे कहां कबूल थी,
मेरी वफायें उसके लिये फिजूल थीं।
कोई आस नहीं लेकिन कोई इतना बतादो,
मैंने चाहा उसे क्या ये मेरी भूल थी।

दिल में है जो दर्द वो किसे बताएं,
हँसते हुए ज़ख्म किसे दिखाएँ।
कहती है ये दुनिया हमे खुशनसीब,
मगर नसीब की दास्तान किसे सुनाएँ।

लोग कहते हैं किसी एक के चले जाने से,
जिन्दगी अधूरी नहीं होती।
लेकिन लाखों के मिल जाने से,
उस एक की कमी पूरी नहीं होती है।

दर्द इतना था मेरे दिल में,
मैं बता ना सका आंखों में आंसू है।
फिर भी गिराना पता चला गया वह शख्स हमेशा के,
लिए पर मैं अपने दिल की बात बता ना सका।

हम आपको कितना यह हम से नहीं आप अपने आपसे पूछो,
लिखता है समाधि के बाजार में लाखों दर्द छुपे होते हैं।
एक छोटे से इनकार में वह क्या समझ पाएंगे प्यार की,
कशिश जिन्होंने फर्क ही नहीं समझा पसंद और प्यार में।

वह छोड़ कर गए हमें ना जाने उनकी क्या मजबूरी थी खुदा ने,
कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं यह कहानी तो मैंने लिखी ही।
अधूरी थी प्यार में बेवफाई मिले तो गम ना करना अपनी आंखें,
किसी के लिए नमूना करना वह चाहे लाख नफरत करे तुम पर।
तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम ना करना।।

शायद जब नींद खुली तो पलकों में पानी था,
मेरे ख्वाब मुझ पर रो गए शायद।
जिस किसी को भी चाहो वह बेवफा हो जाता है,
सर अगर झुका हो तो सनम खुदा हो जाता है,,
जब तक काम आते रहो हमसफर कहलाते रहो।

इतना रोया मेरी मौत पर मुझे जगाने के लिए मैं,
मरता ही क्यों अगर वह रो देता मुझे पाने के लिए।

एक बात सदा याद रखना दोस्त सुख में,
सब मिलते है, लेकिन दुख में सिर्फ भगवान मिलते है।

अजीब सी दुनिया है अजीब से ठिकाने हैं,
यहां लोग मिलते कम है झांकते ज्यादा है।
दुनिया में अगर सबसे अच्छा सोचना है,
तो सर्वप्रथम किसी का बुरा सोचना बंद करना होगा।

हम तो उनकी यादों में जी लेते थे,
मगर उन्होंने तो यादों में ही जहर मिला दिया।

हम मौत को भी जीना सिखा देंगे,
बुझी जो समा उसे भी जला देंगे।

बहुत ही खूबसूरत शब्द लिखे थे,
दुनिया में छोड़ने जैसा कुछ है तो,,
दुसरों को नीचे दिखाना छोड़ दो।

काँटों पर चलकर फूल खिलते हैं,
विश्वास पर चलकर भगवान मिलते हैं।
सच बोलने से हमेशा दिल साफ़ रहता हैं,
अच्छाई करने से हमेशा मन साफ़ रहता हैं।
मेहनत करने से हमेशा दिमाग़ साफ़ रहता हैं।।

Duniya Ka Sabse Dard Bhari Shayari

जीवन में हमेशा एक दूसरे को,
समझने का प्रयत्न करिए परखने का नहीं।

जब सोच में मोच आती है,
तब हर रिश्ते में खरोच आती है।
अवसर और सूर्योदय में एक ही,
समानता है, देर करने वाले इन्हें खो देते हैं।

मीठा झूठ बोलने से अच्छा है,
कड़वा सच बोला जाए, इससे आपको सच्चे,,
दुश्मन जरूर मिलेंगे लेकिन ‘झूठे दोस्त’ नहीं।

इन सांसो में तेरी यादे बस जाती हैं,
जो याद न करूँ तो मेरी जान जाती है।
मैं कैसे कह दूँ मोहब्बत नही है,
तुझसे,जब ये साँसे तुझसे जुड़ जाती हैं।

सुबह होती है शाम होती है,
यूँ ही जिंदगी तमाम होती है।
यूं तो उन्ही का होता है जीना जिनकी मोहब्बत,
में सुबह और शाम होती है।

अपने खिलाफ बाते खामोशी से सुन लो,
यकीन मानो वक्त बेहतरीन जवाब देगा।
वक़्त को भी हुआ है जरूर किसी से इश्क,
जो वो बेचैन है इतना कि ठहरता ही नहीं।

उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ,
सामने न सही पर आस-पास हूँ।
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे,
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ।

कभी कभी न का मतलब इंकार नही होता,
कभी कभी हर नकामयाबी का मतलब हार नही होता।
अरे क्या हुआ तू हमारे साथ नही क्योंकि,
हर वक्त साथ रहने का मतलब प्यार नही होता।

आपको पाकर अब खोना नही चाहते,
इतना खुश होकर अब रोना नही चाहते।
क्या आलम होगा आपसे मिलने का,
आँखों में नींद है पर सोना नही चाहते।

रास्ता भी वही से शुरू होता है मेरा जहाँ आप होते हो,
नजरे भी वही तक जाती है मेरी जहाँ तक आप होते है।
यूँ तो हजारो फूल खिलतें है लेकिन,
महक वहीं तक होती है जहाँ तक आप होते हो।

होले होले से मेरे दिल में आ कर उतर,
गये जैसे मेरी सांसो में खुशबु बन कर बिखर।
गये तेरे प्यार का जादू इस कदर चढ़ा है जहाँ,
भी मई देखूं बस तुम ही तुम नजर आते हो।

तेरे दीवाने हो गये है इससे इंकार नही,
करते,हम कैसे कह दे के तुझसे हम प्यार नही।
करते कुछ तेरी झील सी आँखों की भी,
शरारत थी,वरना ये गुनहा हम अकेले ही नही करते।

तेरी मोहब्बत तेरी वफ़ा, तेरा इरादा सिर्फ तू,
जाने, मै करता हूँ सिर्फ तुझसे मोहब्बत ये मेरा खुदा जाने।

आप इतना मुस्कुराते हो कहीँ फूलो को न खबर हो जाये,
आपकी अदाएं भी कुछ ऐसी है कहीँ उनकी नजर न हो जाये।

तेरे दीदार को निकलते है,
तारे,तेरी महक से छा जाती है।
बहारे तेरे साथ दिखते हैं,
कुछ ऐसे नजारे,अब तो,,
चाँद भी तुझे छुप छुप के निहारे।

Sad दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी

हम आपसे दूर है तो कुछ गम नही,
दूर रह कर भी भूलने बाले हम नही।
दूर रह कर मुलाकात नही हो पाती तो क्या हुआ,
तेरी यादे भी किसी मुलाकात से कम नही।

हम कोई हवा नही जो खो जाएंगे,
हम वक्त भी नही जो गुजर जायेंगे।
हम मौसम भी नही जो बदल जायेंगे,
हम तो वो आँसू है जो ख़ुशी हो या गम दोनों में नजर आएंगे।

कितने बहाने बनाके आपसे बात करते हैं,
हर पल हर घड़ी आपको महसूस।

करते है, जितनी बार आप साँसे भी नही लिया करते होंगे,
उतनी बार हम आपको याद किया करते हैं।

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाये हमने,
अफसोश उन्हें हम पर ऐतबार नहीं।
मत पूछों क्या गुजरती है दिल पर,
जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं है।

फलक में अपनी जनन्तो के सितारे नहीं,
हम उनके है, पर वो हमारे नहीं।
छोटी सी नाव लेकर, उस समुंदर में उतर गए,
जिसमे दूर-दूर तक किनारे नहीं।

दुख होता है बहुत ज्यादा मुझको,
जब अपनों का साथ अचानक छूट जाता है।
कुछ कर नहीं पाता कुछ कह नहीं पाता,
हर बार ये दिल अकेला रह जाता है।

जो नजर से गुजर जाया करते हैं,
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं।
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

क्यों मेरा नसीब मुझसे खफा हो जाता है,
जिसको भी अपना मानो बेवफा हो जाता है।
मेरी नज़रों को रात से शिकायत ना हो,
सपना नहीं होता पूरा और सवेरा हो जाता है।

बस सह सकता हूं इस दर्द को,
कहने को कुछ बचा नहीं है।
उसके जाने के बाद ज़िन्दगी में,
अब और कुछ रहा नहीं है।

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है।
मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा न लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

टूटे हुए ग्लास में कभी जाम नहीं आता,
ऐ-दिल तोड़ने वाले सोच ज़रा,,
टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता।

उसे पाया नहीं लेकिन उसको खोना भी नहीं है,
उसके बगैर आंसू लेकर रोना भी नहीं है।
प्यार का रुख नफ़रत में कुछ इस कदर बदला,
अब सोचते है कि उसका कभी होना भी नहीं है।

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे,
वो भी पल पल हमें आजमाते रहे।
जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया,
हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे।

चाह थी हर खुशी नसीब हो,
हर मंज़िल दिल के करीब हो।
वाहा ख़ुदा भी क्या करे,
जहाँ इंसान ही बदनसीब हो।

दिल से दिल तक दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी

भुला कर तुझको मै संभल तो गया हूं,
लेकिन अंदर से अभी भी टूटा हुआ हूं।
मेरा मन तो खुश है तेरे जाने के बाद,
लेकिन दिल से अभी भी रूठा हुआ हूं।

रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है,
ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है।
हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू,
ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।

वो जिसे समझते थे ज़िन्दगी,
मेरी धड़कनों का फरेब था।
मुझे मुस्कुराना सिखा के,
वो मेरी रूह तक रुला गए।

तेरी याद आई तो थोड़ा उदास हो जाऊंगा,
ज़िन्दगी से फिर एक बार निराश हो जाऊंगा।
कभी सोचा भी ना था ऐसा भी होगा,
तेरी ख़ुशी के लिए मै खुद को रूलाऊंगा।

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे,
लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे।
कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए,
जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।

तुझे पाने की कोशिश की बहुत मैने,
लेकिन शायद मेरी कोशिश में कमी रह गई।
वो कहते थे तुमको कभी दुख ना देंगे,
उनके नाम की मेरी आंखो में नमी रह गई।

जा और कोई दुनिया तलाश कर,
ऐ इश्क़ में तो अब तेरे क़ाबिल नहीं रहे।

दिल मेरा जो अगर रोया न होता,
हमने भी आँखों को भिगोया न होता।
दो पल की हँसी में छुपा लेता ग़मों को,
ख़्वाब की हक़ीक़त को जो संजोया नहीं होता।

हम से हमको ही चुरा के ले गए,
दिल से हमारे सारे अरमान ले गए।
ना करना कभी किसी से प्यार,
जो कहते थे अपना वो हमारी ही जान ले गए।

जब कहा था तुमने हमारे सपने सच होंगे,
तब यकीन था तुम पर रब से भी ज्यादा।
लेकिन अब विश्वास चूर चूर हो गया है मेरा,
शायद तुमने अधूरा छोड़ दिया अपना वादा।

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है,
मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है।
गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर,
लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है।

बारिश का मौसम तेरी याद दिलाता है,
फिर दिल पर दुख का समा छा जाता है।
याद कर के ही तुझे ये दिन गुजरता है,
तेरे ही ख्याल में ये दिल सारी रात जागता है।

ठोकर खाते हैं और मुस्कराते हैं,
इस दिल को सब्र करना सिखाते हैं।
हम दर्द लेकर भी लोगों को याद करते हैं,
और लोग दर्द देकर भी लोगों को भूल जाते हैं।

वो नाराज़ हैं हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं,
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं।
दर्द की ज़ुबान होती तो बता देते शायद,
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते नहीं।

मिटा कर दूरियों को दिल मे प्यार रखना,
प्यार का ये रिश्ता यूँ ही बरकरार रखना।
अगर किस्मत से हम आपसे बिछड़ भी जाएं,
तो हमारा इंतज़ार आंखों में सजाएं रखना।

Duniya Ki Sabse Jyada Dard Bhari Shayari

दिल उनके लिए ही मचलता है,
ठोकर खाता है और संभलता है।
किसी ने इस कदर कर लिया दिल पर कब्जा,
दिल मेरा है पर उनके लिए ही धड़कता है।

अब दिल पर लग जाती है हमारी बातें,
जो कहते थे तुम कुछ भी कहो हमें अच्छा लगता है।

चलो मान लिया हमनें कि मुझे मोहब्बत करनी नहीं आती,
मगर ये भी तो बताओ तुम्हें दिल तोड़ना किसने सिखाया।

हसरतें कुछ और है,
वक्त की इल्तिजा कुछ और है।
कौन जी सका जिंदगी अपने मुताबिक,
दिल चाहता कुछ और है होता कुछ और है।

वो एक तेरा वादा कि हम कभी जुदा ना होंगे,
वो किस्सा हम अपने दिल को सुनाकर अक्सर मुस्कुराते हैं।

गुजारिश हमारी वह मान न सके मज़बूरी हमारी वह जान न सके कहते हैं,
मरने के बाद भी याद रखेंगे जीते जी जो हमें पहचान न सके।

ज़रूरी तो नहीं कि हर पल तेरे पास रहूँ,
मोहब्बत और इबादत दूर से भी की जाती है।

वो बार बार पूछती है कि क्या है,
मौहब्बत,अब क्या बताऊं उसे कि,,
उसका पूछना और मेरा न बता पाना ही मौहब्बत है।

सोचकर बाज़ार गया था अपने कुछ अश्क़ बेचने,
हर खरीददार बोला अपनों के दिये तोहफे बिका नहीं करते।

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है।
प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।

प्यार मुहब्बत का सिला कुछ नहीं,
एक दर्द के सिवा मिला कुछ नहीं।
सारे अरमान जल कर ख़ाक हो गए,
लोग फिर भी कहते हैं जला कुछ भी नहीं।

जिस दिल पे चोट न आई कभी,
वो दर्द किसी का क्या जाने।
खुद शम्मा को मालूम नहीं,
क्यूँ जल जाते हैं परवाने।

ना किया कर अपने दर्द को,
शायरी में बयान ऐ दिल।
कुछ लोग टूट जाते हैं,
इसे अपनी दास्तान समझकर।

हम ने कब माँगा है तुम से,
अपनी वफ़ाओं का सिला।
बस दर्द देते रहा करो,
मोहब्बत बढ़ती जाएगी।

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता।
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।

नफ़रत करना तो हमने कभी सीखा ही नहीं,
मैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर।

दिल को ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई शिकवा नहीं।
और कितने अश्क बहाऊँ अब उस के लिए,
जिसको खुदा ने मेरी किस्मत में लिखा ही नहीं।

कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
कुछ मोहब्बतें भी बड़ी दर्द नाक होती है।

शीशा तो टूट कर अपनी कशिश बता देता है,
दर्द तो उस पत्थर का हैं जो टुटने के काबिल भी नही।

तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं,
तुझको नहीं और अब खोना चाहता हूँ मैं।
अकेले इस तनहाई का दर्द बर्दाश्त नहीं होता,
तू एक बार आजा तुझसे लिपट कर रोना चाहता हूँ मैं।

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी।
उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,
कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी।

दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया।
दिल के सौदागरों से दिल्लगी कर बैठे शायद,
इसलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।

दिल का दर्द हमारा भी अब,
सारी हदें आर पार कर रहा है।
दिलबर भी कितना संगदिल है,
एक जुर्म को बार बार कर रहा है।

आरज़ू नहीं के गम का तूफान टल जाये,
फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदल जाये।
भुलाना हो अगर मुझको तो एक अहसान करना,
दर्द इतना देना के मेरी जान निकल जाये।

इन ग़म की गलियों में,
कब तक ये दर्द हमें तड़पाएगा।
इन रस्तों पे चलते-चलते,
हमदर्द कोई मिल जाएगा।

मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है,
दर्द-ए-दिल की इन्तहा मालूम है।
ज़िंदगी भर मुस्कुराने की दुआ मत देना,
मुझे पल भर मुस्कुराने की सज़ा मालूम है।

दिल से खेलना हमे आता नहीं,
इसलिये इश्क की बाजी हम हार गए।
शायद मेरी जिन्दगी से बहुत प्यार था उन्हें,
इसलिये मुझे जिंदा ही मार गए।

लोग मोहब्बत को खुदा का नाम देते है,
कोई करता है तो इल्जाम देते है।
कहते है पत्थर दिल रोया नही करते,
और पत्थर के रोने को झरने का नाम देते है।

आज उन्हे फुर्सत नही हमसे बात करने की,
ये जिन्दगी गुजर गई उनकी फरियाद करके।
वो आए हमारी मौत पे,
तो कह देना अभी सोया है आपको याद करके।

खफा होने से पहले खता बता देना,
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना।
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को,
तो पहले बिना सांस लिए जीना सिखा देना।

पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में,
नहीं तो गिरता हुआ एक-एक आँसू पूरी किताब है।

सो जा ऐ दिल कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं।

जिसने भी की मुहब्बत, रोया जरूर होगा,
वो याद में किसी के खोया जरूर होगा।

आँखों में आंसुओ के आने के बाद उसने,
धीरे से उसको उसने पोंछा जरुर होगा।

किताबों में कहते हैं फूल तोडना मना है,
बागों में कहते हैं फूल तोडना मना है।
फूलों से कीमती चीज़ हैं दिल,
कोई नहीं कहता कि दिल तोड़ना मना हैं।

ना शौक दीदार का,
ना फिक्र जुदाई की।
बड़े खुश नसीब हैँ वो लोग जो,
मोहब्बत नहीँ करते।

यूँ ना बर्बाद कर मुझे,
अब तो बाज़ आ दिल दुखाने से।
मै तो सिर्फ इन्सान हूँ,
पत्थर भी टूट जाता है, इतना आजमाने से।

पास आ जरा दिल की बात सुनाऊ तुझको,
कैसे धरकता है दिल आवाज़ सुनाऊ तुझको।

आ के तू देख ले दिल पे लिखा है नाम तेरा,
अगर कहता है तो दिल चीर के दिखाऊ तुझको।

जितना जलाया है तुमने प्यार में मुझको,
दिल तो करता है की मै भी जलाऊ तुझको।

अजनबी होता तो ऐसा भी कर लेता शायद ,
मगर तू तो अपना है कैसे सताऊ तुझको।

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है ।
तड़प उठता हूँ दर्द के मारे,,
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है ।
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

जो लोग एक तरफा प्यार करते है,
अपनी ज़िन्दगी को खुद बर्बाद करते है।
नहीं मिलता बिना नसीब के कुछ भी,
फिर भी लोग खुद पर अत्याचार करते है।

तुम्हारे एक लम्हें पर भी मेरा हक नहीं,
ना जाने तुम किस हक से मेरे हर लम्हें में शामिल हो।

हर कोई मुझे जिंदगी जीने का तरीका बताता है,
उन्हें कैसे समझाऊँ की कुछ ख्वाब अधुरे हैं,,
वर्ना जीना मुझे भी आता है।

काश की कयामत के दिन हिसाब हो सब बेबफाओ का,
और वो मुझसे लिपट कर कहे की मेरा नाम मत लेना।

कल तुम्हे फुरसत ना मिली तो क्या करोगे,
इतनी मोहलत ना मिली तो क्या करोगे।
रोज़ कहते हो कल बात करेंगे,
कल हमारी आँखें ही ना खुली तो क्या करोगे।

खोए हुए आंसुओं से मोहब्बत मुझे भी है,
तेरी तरह ज़िन्दगी से शिकायत मुझे भी है।
तू अगर नाज़ुक है तो पत्थर मैं भी नहीं,
तन्हाई में रोने की आदत मुझे भी है।

मुझको रूला कर दिल उसका भी रोया होगा,
उसकी आंखों पर भी आंसू तो आया होगा।
अगर न किया कुछ हासिल हमने प्यार में,
कुछ न कुछ उसने भी तो खोया होगा।

मेरा जमीर मुझसे हर रोज कहता है,
मत देख अपने हाथों की लकीरों को।
वो तब भी तेरी नहीं थी,
जब उसका हाथ तेरे हाथ में था।

मुझे उदास देख कर उसनेे कहा मेरे होते हुए तुम्हें कोई दुःख नहीं दे सकता,
फिर ऐसा ही हुआ जिंदगी में जितने दुःख मिले सब उसी ने दिये।

जब याद आती है मुस्कुरा लेते हैं,
कुछ पल हर गम भुला देते हैं।
कैसे भीग सकती हैं उनकी पलकें,
उनके हिस्से के आंसू जो हम बहा लेते हैं।

कभी कभी सपने चूर हो जाते हैं,
हालात से लोग दूर हो जाते हैं।
पर कुछ यादें इतनी हंसीन होती हैं कि,
उन्हें याद करने को हम मजबूर हो जाते हैं।

किसी का दिल इतना भी मत दुखाओ कि,
वो खुदा के सामने तुम्हारा नाम लेकर रो पड़े।

हालात कह रहे है अब वो याद नही करेंगे,
ओर उम्मीद कह रही है थोड़ा और इंतजार कर।

नाराजगी चाहे कितनी भी क्यों ना हो,
पर तुझे छोड़ देने का ख्याल हम आज भी नहीं रखते।

मुझे तुझ से नही नही तेरे अंदर बैठे रब से मोहब्बत है,
तुम तो बस एक ज़रिया हो मेरे इबादत का।

जिंदगी में अक्सर कुछ लोग ऐसे भी मिल जाते हैं,
जिनको सिर्फ चाहा जा सकता है पाया नही,,
क्यूँ के वो किसी ओर की किस्मत में होते है।

बुरा तो तब लगता है,
जब हम एक ही इंसान से।
बात करना चाहते हो,
और वो हमे इग्नोर करता है।

कौन कहता है कि सिर्फ नफरतों मे ही दर्द होता है,
कभी कभी बेंपनाह मुहब्बत भी बहुत दर्द देती है।

दिल टूटा है संभलने मे कुछ वक़्त तो लगेगा साहब,
हर चीज इश्क़ तो नहीं, की एक पल में हो जाए।

अजीब सी थी वो,
मुझे बदल कर खुद बदल गई।

प्यार किया तुझको दिलोजान से,
इस दिल में तुमको इस कदर बसा लिया।
भुला ना पाया है ये दिल तुझको आज तक,
लेकिन तुमने तो इसे दुख के आंसू रुला दिया।

अब मेरे हाल चाल नहीं पूछते हो तो क्या हुआ,
कल एक एक से पूछोगे की उसे हुआ क्या था।

हमें देख कर जब उसने मुँह मोड़ लिया,
एक तसल्ली हो गयी चलो पहचानते तो हैं।

मेरी कोशिश हमेशा से ही नाकाम रही,
पहले तुझे पाने की अब तुझे भुलाने की।

मैं क्यों पुकारू उन्हें की लौट आओ,
क्या उन्हें खबर नही है के,,
उनके सिवा कोई नही है मेरा।

जितना बदल सकते थे बदल लिया खुद को,
अब जिसको शिकायत हो वो अपना रास्ता बदल ले।

अब तो हर रोज आपसे मिलने को जी करता है,
कुछ सुनने और सुनाने को जी करता है।
और आपके मनाने का अंदाज कुछ ऐसा है,
की एक बार फिर से रूठ जाने को जी करता है।

निकाल दिया उसने अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज की तरह,
ना लिखने के काबिल छोडा ना जलाने के।

कितने अजीब है जमाने के लोग,
खिलौना छोड़ कर जज्बातों से खेलते है।

ये जो तुम्हारी याद है ना बस,
यही एक मेरी जायदाद है।

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया।
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया।

किसकी पनाह म तुझे गुजारे ए ज़िन्दगी,
अब तो रास्तों ने भी कह दिया है घर क्यों नहीं जाते।

ना चाहते हुए भी छोड़ना पड़ता है,
साथ कभी कभी।
कुछ मजबूरियां मुहब्बत से,
भी ज्यादा गहरी होती है।

सोचा न था वो शख्स भी इतना जल्दी साथ छोड़ जाएगा,
जो मुझे उदास देखकर कहता था मैं हूँ ना।

बदल जाते है वह लोग वक़्त की तरह,
जिन्हें हद से ज्यादा वक़्त दिया जाए।

हमने सोचा था की बताएंगे,
सब दुःख दर्द तुमको।
पर तुमने तो इतना भी न,
पूछा की खामोश क्यों हो।

कुछ तन्हाईयां बेवजह नहीं होती,
कुछ दर्द आवाज़ छीन लिया करते हैं।

आपके सारे गम खुशियों में तोल दूँ,
अपने सारे राज़ आपके सामने खोल दूँ।

कोई मुझसे पहले न बोल दे,
इसलिए सोचा क्यों न आज ही,,
आपको हैप्पी न्यू इयर बोल दूँ।

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं,
देखा कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं।

देखा पत्थर मुझे कहता है,
मेरा चाहने वाला मैं मोम हूँ,,
उसने मुझे छू कर नहीं देखा।

खुशियों की दामन में आँसू गिराकर तो देखिये,
ये रिश्ता कितना सच्चा है आजमा कर तो देखिये।

आपके रूठने से क्या होगी मेरे दिल की हालत,
किसी आइने पर पत्थर गिराकर तो देखिये।

हज़ारो बातें मिल कर एक राज़ बनता है,
सात सुरों के मिलने से साज़ बनता।

है आशिक़ के मरने पर कफ़न भी नहीं मिलता,
और हसीनाओ के मरने पर ताज़ बनता है।

ये ना पूछ कितनी शिकायतें हैं,
तुझसे ऐ ज़िन्दगी सिर्फ इतना बता,,
की तेरा कोई और सितम बाक़ी तो नहीं।

तुमने समझा ही नहीं और ना समझना चाहा,
हम चाहते ही क्या थे तुमसे तुम्हारे सिवा।

कैसे बदल दूं मैं फितरत ये अपनी मुझे,
तुम्हें सोचते रहने की आदत सी हो गई है।

सुकून ऐ दिल के लिए कभी हाल तो पूछ ही लिया करो,
मालूम हमे भी है कि हम आपके कुछ नहीं लगते।

वो रो रो कर कहती रही मुझे नफरत है,
तुमसे मगर एक सवाल आज भी।

परेशान किये हुए है की अगर,
नफरत ही थी तो वो इतना रोई क्यों।

चाहत इतनी थी की उनको दिखाई न गई,
चोट दिल पर लगी इसलिए दिखाई।

न गई हम चाहते तो थे सारी दूरियां मिटाना,
लेकिन दूरियां इतनी थी की मिटाई न गई।

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है,
दिल न चाह कर भी खामोश रह जाता है।

कोई सब कुछ कहकर प्यार जताता है,
कोई कुछ न कहकर भी सब बोल जाता है।

हमारी चाहत ने उस वेबफा को ख़ुशी देदी,
और उस वेबफा ने बदले में ख़ामोशी।

देदी मांगी तो उस रब से दुआ मरने की थी,
लेकिन उसने भी हमे तड़पने के लिए जिंदगी देदी।

अपनी मुस्कुराहट को जरा काबू में रखिये,
दिल-ए-नादान कही इस पे शहीद ना हो जाये।
ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की और कहेना,
के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश उनके आँचल का इंतज़ार करती है।

ये वादा है हमारा ना छोड़ेंगे साथ तुम्हारा,
जो गए तुम हमको भूल कर ले आएंगे पकड़ कर हाथ तुम्हारा।

हम दुआएं करेंगे उनपर एतवार रखना,
न कोई हमसे कभी सवाल।

रखना अगर दिल में चाहत हो हमे खुश देखने की,
बस हमेशा मुश्कुराना और अपना ख्याल रखना।

वो छोड़ के गए हमें न जाने उनकी,
क्या मजबूरी थी खुदा ने कहा इसमें।

उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,,
जिन्दगी तेरी चाहत में सवार।

लूँ मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह,
तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ।

तो दोस्तों हमने आप लोगों को ऊपर बहुत सारी शायरियां जो कि दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी में से एक ऐसा कलेक्शन तैयार करके आप लोगों के सामने पेश किया है।

जो कि आप लोगों को काफी पसंद आए होंगे और अगर आप लोगों को हमारे द्वारा दी गई दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरियां में से कोई एक भी शायरी पसंद आई हो तो आप अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट्स जैसे कि इंस्टाग्राम व्हाट्सएप फेसबुक आदि ।

पर स्टेटस और स्टोरी के रूप में शेयर कर सकते हो और उस स्टोरिय पोस्ट के माध्यम से आप अपना दुख भी इन सोशल मीडिया अकाउंट्स पर साझा करोगे तो आपका दर्द जरूर कम होगा।

Leave a Comment